भारतीय वन्‍यजीव अभ्‍यारण्य और राष्ट्रीय उद्यान bharat vanyajiv aur rastriya udyan

upsc, state pcs, cgpsc pre mains, ssc, bank, relway, defence, gk quiz , entrance exam सभी परीक्षा के लिए  bharat ka bhugol indian geography के महत्‍वपूर्ण जानकारी पूर्ण सिलेबस के अनुसार notes के रूप में इस पोस्‍ट पर उपलब्‍ध है। 

भारतीय वन्‍यजीव अभ्‍यारण्य और राष्ट्रीय उद्यान bharat ke vanyajiv
abhyaranya aur rastriya udyan

  •  राष्ट्रीय उद्यान (103)
  •  अभयारण्य- 537
  •  कंजर्वेषन/संरक्षण रिर्जव – 67 (सर्वाधिक- जम्मू कश्मीर
    में 33)
  •  सामूदायिक रिजर्व- 26 (सर्वाधिक- मेघालय में 22)
  •  कुल संरक्षित क्षैत्र – 733
  •  बायोस्फीयर/जैव मंडल रिजर्व – 18
  •  बाघ रिजर्व- 50
  •  हाथी रिजर्व – 29
  •  रामसर नमभूमि-26


राष्ट्रीय उद्यान क्‍या है- 

राष्ट्रीय उद्यान वनस्पति और
जीवो की रक्षा के साथ साथ ऐतिहासिक व सांस्कृतिक परिदृश्य के महत्वपुर्ण स्मारको
के सरंक्षण हेतु राष्ट्रीय उद्यानो की स्थापना की जाती है। इन्हे बड़ी मात्रा में
संरक्षण प्राप्त होता है
, इनमे मानव गतिविधियाँ मुख्यतः प्रतिबंधित रहती है।

वन्यजीव अभ्यारण्य क्‍या है– 

वन्यजीव अभ्यारण्य जानवरो व
विशेष प्रजातियो की रक्षा के लिए वन्यजीव अभ्यारण्य बनाए जाते है
, इनमे पशुचारण जैसी कुछ गतिविधियों
के लिए अनुमति दी जा सकती है।
 

 

  • 💬Top Most Selling Geography Books! Check Price list ! Amazon

भारत के प्रमुख नेशनल पार्क व वन्य
जीव अभ्यारण्य bharat ke pramukh nesnal park and vyanya jiv

 

उतर/उतर पूर्व भारत के महत्वपुर्ण राष्ट्रीय उद्यान

काजीरंगा नेशनल पार्क (असम) –

  •  इसे दो डिवीजनों में बांटने का नोटिफिकेशन जारी
    किया गया था
    , इसका पहला
    डिवीजन
    ईस्टर्न
    असम वाइल्डलाइफ
    और दुसरा बिस्वनाथ वाइल्डलाइफहै।

     

  • ब्रह्मपुत्र नदी इन दोनो डिवीजनो को अलग करती
    है।

     

  • यह एक सींग वाले गैंडे के लिए प्रसिद्ध है।

     

  • इसे युनेस्को द्वारा विश्व धरोहर की सुची में शामिल
    किया जा चुका है।

कंचनजंघ नेशनल पार्क (सिक्किम) –

  • यह भारत का पहला मिश्रित विश्व विरासत स्थल है।

     

  • कंचनजंघा विश्व की तीसरी सबसे उंची चोटी है।

     

  • जेमु ग्लेशियर इस चोटी पर स्थित है। 
  • इसे युनेस्को द्वारा विश्व धरोहर की सुची में शामिल
    किया जा चुका है।

केबुल लामजाओ नेशनल पार्क (मणिपुर)

  •  यह लोकटक झील में स्थित है।

     यह विश्व का एकमात्र तैरता हुआ उद्यान है। 

  •  इसमें फुमड़ी नामक घास पाई जाती है,
    जो झील के लगभग 70% हिस्से पर फैली है।
     
  •  यह सेंगाई हिरण के लिए जाना जाता है। 

दाचीगाम नेशनल
पार्क (जम्मु कश्मीर) –

  •  यह कश्मीरी हांगुल के लिए प्रसिद्ध है।

जिम कार्बेट नेशनल पार्क
(उतराखण्ड) –

  •  यह भारत का पहला नेशनल पार्क है।

  • इन्‍हें भी देखें💬 Byju’s से IAS की तैयारी फ्री में कैसें करें

अन्य महत्वपुण नेशनल पार्क –

नामदफा नेशनल पार्क – अरूणाचल
प्रदेश

  • मानस नेशनल पार्क – असम
  • दुधवा नेशनल पार्क – उतर प्रदेश

उतर/उतर पूर्व  भारत के महत्वपुर्ण वन्य जीव अभ्यारण्य

नन्धारै वन्य जीव अभ्यारण्य

  • उतराखंड के नैनीताल व चम्पावत जिलो मे इसका
    विस्तार है।
     
  • बाघो की तेजी से बढती संख्या के लिए चर्चित

     तराई आर्क लैंडस्केप यानी ज्स् के तहत नन्धौर
    क्षेत्र आता है।

     

  • यह गोला व शारदा नदी के बीच स्थित है।

लीपा-असरा वन्यजीव अभ्यारण्य

  •  यह हिमाचल के किन्नौर जिले में स्थित है।
  •  यहां पर स्नो लेपर्ड पाया जाता है।

फाकिम वन्यजीव अभ्यारण्य

  •  यह नागालैण्ड में स्थित है।
  •  इस अभ्यारण्य के फोरेस्ट गार्ड अलेंबा यिमचुंगरको वर्ष 2019 में अर्थ डे नेटवर्क स्टारअवार्ड मिला था।

तृष्णा वन्यजीव अभ्यारण्य

  • यह त्रिपुरा में स्थित है।

     

  • यह प्राकृतिक गैस निकालने से संबंधित है।

     

  • राष्ट्रीय वन्यजीव बोर्ड ने को तृष्णा गैस
    प्रोजेक्ट के लिए मंजुरी थी।

     

  • यहां पर गौर या इंडियन बाइसन,
    हूलाक गिबन, कैप्ड लंगुर और गोल्डन लंगुर आदि पाए जाते है।

गुमती वन्यजीव अभ्यारण्य

  • यह त्रिपुरा में स्थित है।

     

  • यह त्रिपुरा का सबसे बड़ा वन्यजीव अभ्यारण्य है।
  • इसमे हाथी, बाइसन, सांभर, बार्किंग हिरण, जंगली बकरी आदि पाए जाते है।

त्रिपुरा के अन्य वन्यजीव
अभ्यारण्य – सेपाहीजला

  • वन्यजीव अभ्यारण्य तथा रोवेवा
    वन्यजीव अभ्यारण्य पक्के वन्यजीव अभ्यारण्य
  •  इसे पखुई वन्यजीव अभ्यारण्य के नाम से भी जाना
    जाता है।

     

  • यह अरूणाचल प्रदेश में स्थित है।

     

  • इस क्षेत्र का संरक्षित भाग पक्के और कामेंग नदियो
    के क्षेत्र में आता है।

     

  • इसमें बार्किंग हिरण,
    होंग हिरण व हार्नबिल जैसी प्रजातियां पाई जाती है।

दक्षिण भारत के महत्वपुर्ण राष्ट्रीय
उद्यान 

  • मुकुर्थी नेशनल पार्क (तमिलनाडु) –

     

  • इसमे नीलगिरी ताहर की बढोतरी देखी गई है। 
  •  यहां पर सांभर, बार्किंग हिरण व नीलगिरी मर्टन आदि पाए जाते है।

     

  • यह नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व का हिस्सा है।

बनेरघट्टा नेशनल पार्क (कर्नाटक) –

  •  इसके आस पास का क्षेत्र मानव हाथी संघर्ष की
    दृष्टि से संवेदनशील है।
  • यह बच्चो के लिए बंगलुर के चंपकधाम पहाड़ीयों की
    घाटी में जंगलो के बीच बना एक प्रसिद्ध जैविक मनोरंजन का केन्द्र है।

बांदीपुर नेशनल पार्क (तमिलनाडु) –

  •  2019 में भीषण आग लगने के कारण यह चर्चा में रहा

     ा यह भारत का सबसे बड़ा नेशनल बायोस्फीयर रिजर्व
    नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व का निर्माण करता है।

     

  • इसमे केरल का वायनाड वन्यजीव अभ्यारण्य व
    कर्नाटक का नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान शामिल है।

     

  • यहां पर गौर बैल, सांभर, चीतल, माउस हिरण, चार सिंग वाले मृग, जंगली सुअर, सियार आदि पाए जाते है।

एराविकुलम नेशनल पार्क (केरल) –

  •  यह नीलगिरी ताहर और नीलकुरींजी फूल के लिए
    प्रसिद्ध

अन्नामुडी शोला नेशनल पार्क (केरल)

  • यह राष्ट्रीय उद्यान मन्नवन शोला,
    इदिवारा शोला और पुल्लार्डी शोला से बना हुआ है।
  •  इसमे जंगली हाथी, बाघ, पैंथर,
    भारतीय बाइसन और नीलगिरी ताहर,
    फ्लाइंग गिलहरी स्पाटेड डियर,
    गौर आदि पाए जाते है।

अंशी नेशनल पार्क (कर्नाटक)

  •  इसमें हाथी, गौर, बाघ,
    तेंदुआ, सांभर, हिरण, बार्किंग हिरण, नीलगिरी लंगुर, मालाबार विशाल गिलहरी आदि शामिल है।

दक्षिण भारत के महत्वपुर्ण वन्यजीव
अभ्यारण्य




पराम्बिकुलम वन्यजीव अभ्यारण्य

  •  यह केरल में स्थित है। 
  •  इसमें पराम्बिकुलम,
    थनकाडावु और पेरूवरिप्पल्लम नामक तीन मानव निर्मित जलाशय
    है।

     इसमें तेंदुआ, हाथी, गौर, चितीदार
    हिरण
    , सांभर,
    नीलगिरी लंगुर आदि पाए जाते है।

मेगामलाई वन्यजीव अभ्यारण्य

  •  यह तमिलनाडु में स्थित है। पश्चिम,
    मध्य और पूर्वी भारत बन्नी ग्रासलैण्ड (गुजरात)

     यह भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे बड़ा प्राकृतिक घास
    का मैदान है।

  • पाकिस्तान में सिंध के साथ साथ इसकी भौगोलिक
    सीमा बलूचिस्तान और अफगानीस्तान से लगती है।

     

  • बन्नी नेशनल पार्क 22 जातीय समुदायो के साथ साथ मालधारी चरवाहो का घर है।

     

  • यहां पर भारत का सर्वाधिक बाघ जलघनत्व पाया जाता
    है।

     

  • यह उद्यान रायल बंगाल टाइगर के लिए भी प्रसिद्ध
    है।

नौरादेही नेशनल पार्क (मध्य प्रदेश)

  •  इस अभ्यारण्य में चीता री-इंट्रोडक्शन प्रोजेक्ट
    को पुनर्जीवित करने की बात नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथारिटी के द्वारा कही गई है।

भीतरकणिका नेशनल पार्क (ओेडिशा)

  • यह भारत के सबसे बड़े मैंग्रोव इको सिस्टम में से
    एक है।

     

  • इसमें समुन्द्री कछुए,
    लैपर्ड कैट, फिशिंग कैट, जंगली बिल्ली, लकड़बग्घा, डाॅल्फिन व खारे पानी के मगरमच्छ आदि जीव पाए जाते
    है।

     

  • यह ब्राह्मणी, बैतरणी, धामरा और महानदी के एश्चुरी (ज्वारनदमुख) पर स्थित
    है।
  • गहिरमाथा समुन्द्रीरी वन्यजीव
    अभ्यारण्य (ओेडिशा)
  •  यह ओलिव रिडले कछुओ के लिए विशेष रूप से
    प्रसिद्ध है।

चांडका दम्पारा अभ्यारण्य (ओेडिशा)

  •  यह बांस में उपजने वाली चावल की एक प्रजाति
    बम्बु राईस का संचय शुरू करने के कारण चर्चा में रहा है।

जलदापारा नेशनल पार्क (प.बंगाल)

  •  यह एक सींग वाले गैंडे के लिए प्रसिद्ध है।
  • यहां पर ग्रेट बैबिल नामक पक्षी विशेष आकर्षण का
    केन्द्र है।




भारत के प्रमुख टाइगर रिजर्व

राज्य बाघ  रिजर्व
  स्थापना वर्ष

राजस्थान रणथम्भोर 1973-74

सरिस्का 1978-79

मुकुन्दरा हिल्स 2013

असम काजीरंगा 2006

मानस 1973-74

नेमरी 1999-00

अरूणाचल नामदफा 1982-83

पक्के/पाकुई 1999-00

आन्ध्रप्रदेश

नागार्जुन 1982-83

श्रीसेलम

बिहार– वाल्मिकी 1989-90

छतीसगढ 

इन्द्रावती 1982-83

अचानकुमार 2008-09

उदंती सिंतानंदी 2008-09

झारखण्ड– प्लामू 1973-74

कर्नाटक

बांदीपुर 1973-74

नागरहोल 1999-00

भद्रा 1998-99

दादेली अंशी 2007

बिलिगिरिरंग 2011-12

केरल –

पेरियार 1978-79

पाराम्बिकुलम 2008

मध्यप्रदेश (टाइगर स्टेट)-

बांधवगढ 1993

सतपुरा 1999-00

कान्हा 1973-74

पना 1994-95

पेंच 1992-93

संजय डुबरी 2008-09

महाराष्ट्र

मेलघाट 1973-74

टडोब अन्धेरी 1993-94

सहयाद्री 2009-10

नवेगांव नागजीरा 2013

बोर 2014

मिजोरम डंपा 1994-95

उतरप्रदेश दुधवा 1987-88

अमानगढ 2012

पीलीभीत 2012

उतराखण्ड जिम कार्बेट 1973-74

प.बंगाल

बुक्सा 1982-83

सुंदरवन 1973-74

तेलंगाना- कवल 2012-13

ओेडिशा

सिमिलपाल 1973-74

सतकोसिया 2008-09

तमिलनाडु

 

कालकंड-मंदथुरेई 1988-89

अन्नामलाई 2007

सत्यमंगल 2013




tags-india national park and abhyaran#national park and abhyaran#national park of india#national park of india map#national park of india in hindi#national park of india state wise#national park of india upsc#national park of india in hindi pdf#national park of india  list#rastriya udyan in assam#rastriya udyan in up#rastriya udyanavanagalu in kannada#rashtriya udyan in india#rashtriya udyan in india in hindi pdf#वन्यजीव अभयारण्य#chandraprabha vanyajiv abhayarany#वन्यजीव अभ्यारण्य meaning in english#वन्यजीव अभयारण्य क्या है

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *