छत्तीसगढ़ में वन । forest in chhattisgarh

Forestry in chhattisgarh ! छत्तीसगढ़
में वानिकी ! 
छत्तीसगढ़ में वन । forest in chhattisgarh

forest in chhattisgarh

  • छत्तीसगढ़ राज्‍य का भौगौलिक
    क्षेत्रफल 1,35,191 वर्ग किलोमीटर है जो कि देश के क्षेत्रफल का 4.1 प्रतिशत है।
  • छत्तीसगढ़ वनों का क्षेत्रफल लगभग 59772 वर्ग किमी है जो कुल
    भौगौलिक क्षेत्रफल का 44
    .2
    प्रतिशत है।
  • छत्तीसगढ़ राज्‍य वन
    क्षेत्रफल की दृष्टि से देश में चौथे 4
    th  स्‍थान पर है।
  • छत्तीसगढ़ राज्‍य वन आवरण
    की दृष्टि से देश में तीसरे 3 स्‍थान पर है।

  1. छत्तीसगढ़ में आरक्षित वन
    25
    ,782.17 वर्ग किमी लगभग 43.13 प्रतिशत है।
  2. छत्तीसगढ़ में संरक्षित वन
    24.036 वर्ग किमी लगभग 40.22 प्रतिशत है।
  3. छत्तीसगढ़ में अवर्गीकृत वन
    9954.13 वर्ग किमी लगभग 16.65 प्रतिशत है तथा



  • छत्तीसगढ़ में कुल 59,772.40 वर्ग किमी वन क्षेत्र है।
  • वर्ष 2019-20 में
    तेंदूपत्ता का उत्‍पादन 15.01 लाख मानक बोरा का उत्‍पादन हुआ है तथा 2020 -21 माह
    सितम्‍बर में 9.72 लाख मानक बोरा हुआ।
  • खदानी रोपन योज्‍नन्‍तर्गण
    वर्षा ऋतु 2020 में 5.94 लाख पौधे का रोपण किया गया है।
  • 2020 में 1897.093 हेक्‍टेयर
    क्षेत्र में 32,20,500 सागौन पौधे का रोपण किया गया है।
  • 2017 में छत्तीसगढ़ में 9
    वनमंडलों मे होम हर्बल गार्डन की स्‍थापना की गई।
  • वानिकी क्षेत्र का सकल घरेलू
    उत्‍पाद में योगदान स्थिर भाव पर 2011-12 के अनुसार-
  • 2016-17 में 22.12 प्रतिशत
    की वृद्धि हुई
  • 2017-18 में 8.09 प्रतिशत
    की ऋणात्‍मक वृद्धि हुई।
  •  पिछले चार सालों 2016 से 2020 में वानिकी
    क्षेत्र का सकल राज्‍य घरेलू उत्‍पाद
    GSDP  में योगदान कर हो रही है लेकिन 2020 से 21 में
    2019 -20 की तुलना में मामूली बढ़त मिली है।

प्रमुख तथ्‍य important cg forest
facts

  • तेंदू पत्ता का वर्तमान
    समर्थन मूल्‍य एक मानक बोरा 4000 रू है।
  • तेंदू पत्ता संग्रहण में एक
    मानक बोरा में 50 हजार तेंदू पत्तियां होती है।
  • महुआ बीज इमली चिरौजी गुठली
    एवं लाख का संग्रहण वर्ष 2015से 16 से प्रारंभ हुआ है।
  • लघु वनोपज सहकारी संघ द्वारा
    भारत सरकार के न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य योजनांतर्गत हर्रा एवं साल बीज का संग्रहण
    साल 2014 से 15 से किया जा रहा है।
  • छत्तीसगढ़ की जलवायु मुख्‍यत-
    सह आर्द तथा औसत वार्षिक वर्षा 1200 से 1500 मिमी है।
  • छत्तीसगढ़ के वनो को दो
    प्रमुख वर्गा में बांटा गया है 1- उष्‍णकटीबंधीय आर्द पर्णपाती वन एंव 2- उष्‍णकंटीबंधीय
    शुष्‍क पर्णपाती वन ।
  • छत्तीसगढ़ की 2 प्रमुख
    वृक्ष प्रजाति साल (सोरिया रोबुस्‍टा), एवं सागौन(टेक्‍टोना ग्रेण्‍डीस) है।
  • साल वृक्ष को राज्‍यीय
    वृक्ष घोषित किया गया है।
  • जैव भौगालिक दृष्टिकोण्‍ से
    छत्तीसगढ़ डेक्‍कन जैव क्षेत्र (
    Deccan bio area) में शामिल है।
  • छत्तीसगढ़ में वानिकी के
    माध्‍यम से प्रति वर्ष लगभग 7 करोड़ मानव दिवस रोजगार का सृजन होता है।



छत्तीसगढ़ राज्‍य वन विकास
निगम
chhatisgarh
state forest development corporation

  • छत्तीसगढ़ राज्‍य वन विकास
    निगम मई 2001 में रायपुर क्षेत्र की चार परियोजना मडल को लकर शु‍रू हुआ। वर्तमान
    में 9 परियोजना मंडल है- औद्यौगिक परियोजना मंडल कोरबा,रायगढ़,
     एवं जगदलपुर शामिल
    है।

9 परियोजना मंडल

  1. बारनवापारा (रायपुर)
  2. पानाबरस (राजनांदगांव)
  3. अंतागढ़ (भानुप्रतापपुर)
  4. सरगुजा
  5. कवर्धा,
  6. कोटा (बिलासपुर)
  7. औद्यौगिक वन मंडल कोरबा
  8. औद्यौगिक वन मंडल जगदलपुर
  9. औद्यौगिक वन मंडल रायगढ़

छत्तीसगढ़ के वन वृत्त 6
बिलासपुर, जगदलपुर, सरगुजा, कांकेर, रायुपर, दुर्ग।




वन वृत्त

6

वन परियोजना मंडल

9

क्षेत्रीयवन मंडल

34

औद्यौगिक वन परियोजना मंडल

3

 

  • छत्तीसगढ़ में में 6 औषधीय पौधा
    संरक्षित क्षेत्र
    MPCA की स्‍थापना 01 बस्‍तर 1 कटघोरा, 4 पश्चिम भानुप्रतापपुर में की गई है। छत्तीसगढ़ राज्‍य औषधीय पादप
    बोर्ड द्वारा 30 हेकटेअर में 14 हर्बल गार्डन नारायणपुर
    , दक्षिण कोण्‍डागांव2
    रायपुर
    , सरगुजा, जगदलपुर,कांकेर, दुर्ग, केशकाल, महासमुंद, पिश्‍चम भानुप्रतापुर, सूरजपुर, बस्‍तर बलरामपुर का स्‍थापना किया गया है।
  • छत्तीसगढ़ में समर्थन मूल्‍य
    पर अब 52 लघु वनोपजों की खरीदी होती है।
  • वर्तमान में 52 लघुवनोपज खरीदा
    जा रहा है पहले 31 लघुवनोपज को खरीदा जाता था। उसके बाद 21 वनोपज को शामिल किया गया

तेंदूपत्‍ता और वनोपज संग्रहण-

स्‍त्रोत जनमन नवम्‍बर 2021

  • 232 करेाड़ – साल 2018 में तेंदूपत्‍ता
    संग्राहकों को प्रदान किया गया ।
  • 340.93 करोड़ –
    2020 से जून 2021 तक लघुवनोपज की खरीद हुआ।
  • 520.करोड़ साल 2021 में तेदुपत्‍ता
    संग्राहकों को पारिश्रमिक दिया गया ।

 

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *