कौन सही😄 Koun Sahi? short story in hindi

kahani kahani kahani kahani I short story in hindi

😄कौन सही ?😄




एक पांचवी फेल सेठ था वह रायपुर में रहता था । एक दिन उसे अपने किसी व्‍यावसाय के काम से नागपुर जाना था अत: उसने यात्रा की सारी तैयरियां एक दिन पहले ही कर ली थीं लेकिन ऐसा हुआ कि यात्रा की पूर्वरात्रि को उनके पुराने व वफादार चौकीदार ने एक सपना देखा और सपना भी ऐसा कि सेठजी नागपुर जाने तक उनकी ट्रेन पटरी से उतर गई और उनका ऐक्‍सी‍डेन्‍ट हो गया है बस चिंतित चौकीदार ने यह बात अपनी मालकिन सेठजी की पत्‍नी को बताईऔर उनसे  सेठ जी की यात्रा निरस्‍त करने का निवेदन किया । पत्‍नी तो इतना सुनते ही आशंकित और भयभीत हो गई इस कारण उसने किसी तरह सेठजी से निवेदन कर उनकी यात्रा निरस्‍त करवा दी। हालांकि सेठजी इस बात से बड़े नाराज थे परंतु पत्‍नी के सामने उनकी चलती भी क्‍या थी। मगर उधर वास्‍तविक में ट्रेन पटरी से उतर कर उनका ऐक्सिडेंट हो गया और उसमें सवार यात्री की मृत्‍यु हो गयी। सेठजी की पत्‍नी ने जब यह सुना तो शुक्र मनाया और उस चौकीदार को इनाम भी दिया। मगर दूसरे तरफ सेठ जी ने उसे काम से निकाल दिया था कारण क्‍या था?

पत्‍नी ने पूछा तो कारण यह बताया सेठ जी ने कि उसका सपना देखना और घटना एक संयोग था परंतु मुख्‍य सवाल य‍ह है कि एक वह चौकीदार होकर सो कैसे सकता है कल को यदि घर में डाका पड़ा तो वह सोता ही रह जाता और हमारा नुकसान हो जाता । सेठजी की बात तर्कसंगत थी पत्‍नी चौकीदार के प्रति सहानुभूति रखने के बाद भी कुछ नहीं कह पाई।

आपको क्‍या लगता है कौन सही एवं गलत था।

निष्‍कर्ष-

सेठजी इस कहानी में मौत के मुह में जाते जाते बचे थेइतने बड़े हादसे का शिकार होने से बचे थे लेकिन फिर भी उनका होश बरकरार था चौकीदार की स्‍वाभविक ड्युटी से उनका ध्‍यान नहीं हटा था वरना सामान्‍य मनुष्‍य तो सफलता असफलता या गम और खुशी के महौल में इस कदर खोजाता है कि बाकी सब जगह से उनकी निगाह हट जाती है। और यही वास्‍तव में मनुष्‍य के बार बार बड़ी मुसीबतों में फंसने का कारण है। 






story पढ़ना एवं सुनना किसे पसंद नही होती है और story हमें हर तरह से शिक्षा देती है short story बनाने का मकसद ही होता है कम समय में ज्ञान का विस्‍तार कर मनोरंजन एवं शिक्षा देना । इस पोस्‍ट में  short story in hindi के अंतर्गत कौन सही नामक short story लिखा गया है हालां‍कि यह कहानियां सदाबहार है एवं अच्‍छी मानसिकता बया करती है

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *