कोपेन के अनुसार जलवायु वर्गीकरण भारत | Bharat ki jalvayu | Bharat ka bhugol in hindi

कोपेन के अनुसार जलवायु वर्गीकरण (भारत)! copen ka jalvayu vibhajan




कोपेन के अनुसार भारत के जलवायु प्रदेश कोपेन ने अपने जलवायु वर्गीकरण में तापमान व वर्षा के मासिक मानको को आधार
माना है। उन्होने
 जलवायु के पांच प्रकार माने है, जिनके नाम है-


  1. उष्ण कटि. जलवायु (tropical climate )– जहां वर्ष भर औसत
    मासिक तापमान 18 सेल्सियस से अधिक रहता है।
  2. शुष्क जलवायु ( dry climate)- जहां तापमान की तुलना में वर्षा बहुत कम
    होती है। शुष्कता कम होने पर यह अर्ध शुष्क मरूस्थल कहलाता है
    , तथा शुष्कता अधिक होने पर यह मरूस्थल
    होता है।
  3. गर्म जलवायु (hot climate) जहां सबसे ठण्डे महिने
    का औसत तापमान 18 सेल्सियस और -3 सेल्सियस के बीच रहता है।
  4. हिम जलवायु (snow climate) जहां सबसे गर्म महिने का औसत तापमान 1
    सेल्सियस से अधिक और सबसे ठण्डे महिने का औसत तापमान 3सेल्सियस से कम रहता है।
  5. बर्फीली जलवायु (snowy climate) जहां सबसे गर्म महिने का औसत तापमान
    10सेल्सियस से कम रहता है।

कोपेन के अनुसार जलवायु वर्गीकरण भारत को दर्शाने के लिए वर्ण संकेतो का प्रयोग किया हैजो इस प्रकार से है-

संकेत

अर्थ

s

अर्द्ध मरूस्‍थल

w

मरूस्‍थल

f

वर्षा

w

शुष्‍क शीत ऋतु

h

शुष्‍क और गर्म

c

4 महिने से कम अवधि का औसत तापमान 10सेल्सियस से अधिक

g

गंगा का मैदान




भारत के 8 जलवायु प्रदेश जो कोपेन के अनुसार copen ka jalvayu vibhajan माने गए 

संकेत

जलवायु के प्रकार

क्षेत्र

Amw

लघु शुष्‍क ऋतु वाला मानसुन

गोवा के दक्षिण में भारत का प0 तट

As

शुष्‍क ग्रीष्‍म ऋतु वाला मानसुन

तमिलनाडु को कोरोमंडल तट

Aw

उष्‍ण कटिबंधीय सवाना प्रकार

कर्क रेखा के द0 का प्रायद्विपीय पठार

BShw

अर्द्ध शुष्‍क स्‍टेपी जलवायु

उत्तर-पश्चिमी गुजरातपश्चिमीराजस्‍थानव पंजाब का कुछ भाग

BWhw

गर्म मरूस्‍थल

पश्चिमी राजस्‍थान

Cwg

शुष्‍क शीत ऋतु वाला

गंगा का मैदान

Dfc

लघु ग्रीष्‍म तथा ठण्‍डी आर्द्र शीत ऋतु वाला जलवायु प्रदेश

अरूणाचल प्रदेश

E

ध्रवीय प्रकार

जम्‍मु कश्‍मीरहिमाचल व उत्तराखण्‍ड


tags- कोपेन के अनुसार जलवायु वर्गीकरण भारत,bharat ka bhugol in hindi

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *