अक्ती तिहार 2023-पूजा मुहूर्त, महत्‍व | Akti Tihar Photos, Ringtone, Wishes, Important, Muhurt 2023

अक्षय
तृतीया (
Akshaya
Tritiya 2023) महापर्व को छत्तीसगढ़ में अक्‍ती के रूप में संबोधित
किया जाता है।




अक्ती
तिहार (
Akti
Tihar 2023)

अक्ती
तिहार (
Akti
Tihar), अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya 2023)
के दिन छ्तीसगढ़ राज्‍य में बड़े धुमधाम से मानाया जाता हैं। अक्ती तिहार (
Akti
Tihar) लोक पर्व  के रूप में
मनाया जाता है।

क्‍या
है अक्ती तिहार (
Akti Tihar 2023)

अक्ती
तिहार (
Akti
Tihar) का मूल केंद्र किसान जीवन के श्रम और साज श्रृंगार के भाव
में निहित माना जाता है।इसे हालांकि किसानों का प्रथम पर्व कहा जाता है। अक्ती
तिहार (
Akti Tihar) के दिन से ही कृषि कार्य का प्रारंभ माना
जाता है। खेती कार्य की दृष्टि से यह नए वर्ष का प्रारंभ दिवस है। लोक पर्व अक्‍ती
बैसाख शुक्‍ल पक्ष की तीज को मनाया जाता है।

क्‍यों
एवं कैंसे मनाया जाता है अक्ती तिहार (
Akti Tihar 2023)

अक्ती
तिहार (
Akti
Tihar) के दिन सुबह से स्‍त्री पुरूष, जवान
सीयान स्‍नान करके कुम्‍हार
के घर से लाये करसी, करस व पीरा
जो कि मिट्टी से बने लाल गमला एवं घड़ा होता है में पानी भरकर लाते हैं।
अक्ती
तिहार (
Akti
Tihar) में इन पानी से नीम की डाली डालकर मंदिर में भगवान को पानी अर्पित
करते हैं। नीम का वृक्ष आरोग्‍यता प्रदान करता है। इस दिन श्रद्धालू अपने-अपने
देवी देवता
,माता-पिता आदि की पूजा करते हैं।इन देवी देवता
में ठाकुर दैयया
, माता देवाला, सांहड़ादेव
आदि प्रमुख हैं। श्रद्धालू देवताओं के साथ ही गावं के अन्‍य मंदिरों में भी जल
चढ़ाकर घर-परिवार और गांव के सुख समृद्धि की मंगलकामना करते हैं।मृत व्‍यक्ति के
समाधि स्‍थल पर भी पोरा में पानी रख दिया जाता है। इसके अंतर्गत माना जाता है कि भरी
दोपहरी गर्मी में पितरों की प्‍यास
, बुझे, उन्‍हें पानी की तकलीफ न हों।

Akti Tihar Photos



अक्ती
तिहार (
Akti
Tihar) क्‍यों हैं खास-

अक्षय
तृतीया (
Akshaya
Tritiya) का शुभ मुहूर्त हाने के कारण इस दिन शहर एवं गांव में
विशेष् रौनक नजर आती है मिट्टी के गुड्ड-गुडि़या बाजारों में सज जाते हैं।अक्षय
तृतीय को छत्तीसगढ़ में अक्ती तिहार (
Akti Tihar) नाम से
जाना जाता है। तीजा पोरा की तरह इसे भी प्रमुखता से मनाया जाता है।

अक्ती
तिहार (
Akti
Tihar) में विशेष मुहूर्त होने के कारण इस दिन विवाह, नवजात का मुंह जुठा कराना, मुंडन , गृह पूजा, गृह प्रवेश आदि संस्‍कार कराए जाते हैं।
एवं स्‍वर्ण
, एवं क्षातु खरीदना शुभ माना जाता है।

  • अक्ती
    तिहार (
    Akti
    Tihar) के दिन मेहमान को मान-सम्‍मान के साथ भोजन कराने परंपरा है ।
    किसान अपने खेतों में काम करने वालों को विशेष भोज कराते हैं।
  • छत्तीसगढ़
    में अक्‍ती से जुड़ी एक अन्‍य मान्‍यता है कि इस दिन अपनी गलतियों के लिए क्षमा
    याचना की जाए तो भगवान माफ कर देते हैं।

 


अक्ती
तिहार (
Akti
Tihar) या अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) में
बड़ी संख्‍या में विवाह किया जाता है यह अति शुभ माना जाता हैं। यह दिन इतना शुभ
है कि इस दिन में कोई पंचांग देखनी की जरूरत नहीं होती ।

 

अक्षय
तृतीया (
Akshaya
Tritiya 2023 Pooja Muhurt ) पूजा मुहूर्त-

पंचांग
के अनुसार
22 अप्रैल को मान्‍य रहेगा ।अक्षय
तृतीया (
Akshaya Tritiya) के शुभ अवसर पर यदि आपको इस दिन
श्री विष्‍णु की पूजा करनी है
, तो शुभ मुहूर्त सुबह 5 बजकर
39 मिनट बजे से प्रारंभ होकर दोपहर 12 बजकर 18 मिनट बजे तक है।


अक्षय
तृतीया (
Akshaya
Tritiya 2023) का महत्‍व । अक्षय तृतीय को क्‍या करें

22
अप्रैल 2023 को इस वर्ष अक्षय तृतीय का शुभ मुहूर्त हैं । इस अक्षय तृतीया (
Akshaya
Tritiya) 2023 में को अपने इष्‍टदेव की पूजा, आराधना
करें अपने परम आराध्‍य की पूजा करें। अपने मनोकामना प्राप्‍त करने के लिए घर में
दीपक अवश्‍य जलाएं।

 

Akti tihar image


  • Tags-akti tihar
    kab hai
     
  • akti tihar
    kab manaya jata hai
  • Akshaya
    tritiya
  • Akshaya
    tritiya 2023
  • Akshaya
    tritiya wishes
  • Akshaya
    tritiya images

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *